गीत निर्झरी (सुमित मुटाटकर रचित बंदिशों का संग्रह): Collection of Musical Compositions of Sumati Mutatkar (With Notation)
Look Inside

गीत निर्झरी (सुमित मुटाटकर रचित बंदिशों का संग्रह): Collection of Musical Compositions of Sumati Mutatkar (With Notation)

FREE Delivery
$32.80
$41
(20% off)
Quantity
Ships in 1-3 days
Item Code: NZI806
Author: सुमति मुटाटकर (Sumit Mutatkar)
Publisher: Kanishka Publishers
Language: Hindi
Edition: 2012
ISBN: 9788173914850
Pages: 152
Cover: Hardcover
Other Details 9.5 inch x 6.5 inch
Weight 390 gm
23 years in business
23 years in business
Shipped to 153 countries
Shipped to 153 countries
More than 1M+ customers worldwide
More than 1M+ customers worldwide
Fair trade
Fair trade
Fully insured
Fully insured

पुस्तक परिचय

संगीत-विदुषी सुमति मुटाटकर की रचनाओं का संग्रह| प्रचलित व विशेष रूप से अल्प-धमार, ख़याल-तराना-चतरंग, इन हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत की प्रमुख विधाओं में ये रचनाएँ हैं |

यमन, श्यामकल्याण, देस, पूरिया-धनाश्री, चंद्रकौंस जैसे सर्वविदित रागों के साथ-साथ पटमंजरी, पटबिहाग, दीपक, लक्ष्मी तोड़ी, हेमनाट जैसे अछोप राग एवं वसंतमुखारी, चारुकेशी जैसे नवागत रागों का भी समावेश इस संग्रह मे हैं|

नवरचना की प्रेरणा लेखिका को गुरुवर आचार्य श्रीकृष्ण नारायण रातंजनकर से मिलती रही| आचार्य स्वयं आज के युग के सर्वश्रेष्ठ, सर्जनशील वाग्गेयकार थे| अपने शिष्यों को नवनिर्मिति के लिए प्रेरित करते थे| उनका कहना था की रागरूप का स्पष्ट अंकन हो और किसी की कार्बन कॉपी न हो, इस दिशा में प्रयास करना चाहिए| परम्परा के निर्वाह में आस्था के साथ-साथ सुमति मुटाटकर नविन आयामों का भी अहसास रखती हैं|

इस संग्रह में लगभग सतर बंदिशों के अतिरिक्त एक छोटा- सा खंड सरल सुबोध संस्कृत भाषा में स्वनिर्मित कविता व मुक्तकों का हैं| भरत की नाट्य व संगीत की समृद्ध परम्परा से कुछ बिन्दु इसमें समाविष्ट हैं|

 

लेखक परिचय

सुमति मुटाटकर (जन्म सन् 1916)
पदमश्री व कालिदास सम्मान से विभूषित विदुषी सुमति मुटाटकर संगीत-जगत् में अपना विशिष्ट स्थान रखती हैं|

आचार्य श्रीकृष्ण नारायण रातंजनकर की प्रमूख शिष्या| अन्य गुरुपंडित राजाभैया पूँछवाले, उस्ताद विलायत हुसैन खाँ, पंडित अनंत मनोहर जोशी, पंडित गोविंद राव बुरहानपुरकर|

क्रियासिद्ध कलाकार, शास्त्रविद् गुरु, आचार्य, प्रशासक के रूप में बहुमूखी कार्य| आकाशवाणी व दिल्ली विश्वविघालय में उच्च पदों पर कार्य| विदेशों में- प्रातिनिधिक विशेषज्ञ व कला प्रस्तुतिकार के रूप में क्रियान्वयन- नेपाल, मॉरीशस, आस्ट्रेलिया, यूरोप, जापान|

विद्धान् गुरुओं से प्रशिक्षण व अपनी साधना के बल पर जो अर्जित किया, उसकी तीन कैसेट के सेट नादज्योति के द्धारा संगीत जगत् के सम्मुख प्रस्तुत|

 




Sample Pages








Add a review
Have A Question

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

CATEGORIES