लड़कियों की शादी में विलम्ब: Delayed Marriage of Girls
Look Inside

लड़कियों की शादी में विलम्ब: Delayed Marriage of Girls

$9  $12   (25% off)
Item Code: NZF314
Author: श्री के. एन. राव (Shri K.N Rao)
Publisher: Vani Publications
Language: English Text with Hindi Translation
Edition: 2013
ISBN: 8189221434
Pages: 84
Cover: Paperback
Other Details: 8.5 inch X 5.5 inch
Weight 110 gm

पुस्तक परिचय

बदले और बदलते हुए भारत के शहरो में रहने वाले शिक्षित लड़की की शादी एक चिन्ता का विषय है | इसका कारण यह है कि लड़की और उसके माँ बाप उसके केरियर को प्रधानता देते है | लड़की की उम्र बढ़ जाने के बाद उसका ध्यान अपने कैरियर पर होता है उसके माता पिता भारतीय परम्परा के अनुसार उसके विवाह के लिए चिन्तित होने लगते है | इस समस्या को सुलझाने के लिए चार महिला ज्योतिषियों ने अपने इस समस्या का एक हल ढूंढ निकाला है जो इस प्रकार है | पहले यह पता लगाये कि लड़की कि शादी उम्र के किस खण्ड में होने कि संभावना है उसके बाद दशा अन्तर्दशा लगा कर एक समय निकालिये |

इस पुस्तक कि उपयोगिता शहर में रहने वाली शिक्षित लड़कियों के लिए है क्योकि गांव में अभी भी बाल विवाह कि प्रथा जीवित है | 1930 में अंग्रेजो के जमाने में शारदा एक्ट बनाकर बाल विवाह को गैर कानूनी करार दिया था किन्तु यह प्रथा ज्यो कि त्यों आज भी ग्रामीण भारत में जीवित है | इसलिये यह शोध सिर्फ शहर में जन्मे शिक्षित महिलाये जिनके विवाह में विलम्ब है उनकी कुंडली पर लागू होगा |

बाजारवाद के इस ज़माने में तथाकथित कालसर्प योग आदि लगाकर ज्योतिष में धोखा अधिक है और शोध बहुत कम | इसलिये तथाकथित उपायों के चक्कर में न पड़कर इस शोध को लगा कर यह देखिये कि लड़की का विवाह कब सम्भव है | अगर 60 से 80 प्रतिशत कुंडलियो में यह खरा उतरता है तो इसकी उपयोगिता आधुनिक भारत के समाज के लिये बहुत अधिक है |

इस पुस्तक कोई इस आशा से प्रस्तुत किया जा रहा है कि इसी शोध को नया आयाम देकर भविष्य में आगे बढ़ाया जा सके |

 


Sample Page

Add a review
Have A Question

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

CATEGORIES