Warning: include(domaintitles/domaintitle_cdn.exoticindia.php3): failed to open stream: No such file or directory in /home/exotic/newexotic/header.php3 on line 751

Warning: include(): Failed opening 'domaintitles/domaintitle_cdn.exoticindia.php3' for inclusion (include_path='.:/usr/lib/php:/usr/local/lib/php') in /home/exotic/newexotic/header.php3 on line 751

Subscribe for Newsletters and Discounts
Be the first to receive our thoughtfully written
religious articles and product discounts.
Your interests (Optional)
This will help us make recommendations and send discounts and sale information at times.
By registering, you may receive account related information, our email newsletters and product updates, no more than twice a month. Please read our Privacy Policy for details.
.
By subscribing, you will receive our email newsletters and product updates, no more than twice a month. All emails will be sent by Exotic India using the email address [email protected].

Please read our Privacy Policy for details.
|6
Sign In  |  Sign up
Your Cart (0)
Best Deals
Share our website with your friends.
Email this page to a friend
Books > Hindu > हिन्दी > गुरु नानक देव: Guru Nanak Dev
Subscribe to our newsletter and discounts
गुरु नानक देव: Guru Nanak Dev
गुरु नानक देव: Guru Nanak Dev
Description

प्राक्कथन

 

मध्यकालीन भारत में भक्ति-आन्दोलन के कर्णधारों में गुरु नानकदेव का आगमन केवल एक प्रमुख सन्त के रूप में ही नहीं हुआ था, वरन् वे अपनी सहज विचारधारा और नव-चिन्तन के बल पर देश में एक अलग मानववादी पंथ खड़ा करने वाले महापुरुष भी कहलाए । पंजाब की धरती से मानवता की जो आवाज़ उठी, उसने एक ओर तत्कालीन मुस्लिम बादशाह और नवाबों की ऐय्याशी और जन-साधारण के अमानवीय शोषण को चुनौती दी, तो दूसरी ओर पतनोन्मुखी मानवीय संवेदनाओं को पुनर्सजग करने के भरपूर प्रयास किए । गुरुदेव ने सहज विवेक से, जन पर होने वाले सामाजिक, प्रशासकीय एवं सजातीय अत्याचारों के विराध में शंखनाद किया और अपनी-अपनी जातीय सीमाओं के कष्ट में पनपती आम आदमी की जिंदगी को सहज-सरल बनाने एवं उन्हें परम शक्ति के संरक्षण का विश्वास दिलाने का महत् कर्म किया । जिज्ञासुओं को अध्यात्म के धरातल पर सत्य का पथ प्रदान किया, और श्रद्धालुओं को सत्याचरण का संदेश देकर प्रभु की शरण में समर्पित होने को प्रोत्साहित किया । गुरुदेव ने नये पंथ का बीज बोया और धीरे-धीरे पनपता हुआ वह एक विश्वव्यापी और सशक्त मानवीय स्वर बना ।

ऐसे महामानव का जीवन, उनसे सम्बद्ध घटनाएं, उनके सार्थक कर्म, लोक-चेतना को जगाने वाली लम्बी यात्राएं, विनम्र और सुदृढ़ व्यक्तित्व, जिसके सजग और सुविज्ञ तर्कों से अनगिनत विकट स्थितियों का सुलझना, इन सबसे ऊपर उनका आत्मानुभूत 'सत्य' जिसने आध्यात्मिकता की परिभाषा को कर्मकाण्ड की कारा से निकालकर जीवात्मा के अनुभूत यथार्थ की सुखद संवेदना में स्थापित किया-आदि तथ्य, भावी पीढ़ियों के लिए प्रेरक अनुकरणीय और सदैव उत्साह वर्द्धक हैं । वर्तमान को उस अतीत का दर्शन करवाने, सत्पथ की प्रेरणा देने और गुरु के वास्तविक मिशन को जन-जन तक पहुँचाने की सहज श्रृंखला में एक कड़ी के रूप में प्रस्तुत है यह लघु पुस्तक ।

उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ की प्रेरणा से यह पुस्तक तैयार की गई है । इसकी विशिष्टता यह है कि हमने इसमें गागर में सागर भरने का विनम्र प्रयास किया है । गुरुनानक देव का समूचा जीवन शिक्षाप्रद एवं प्रेरक घटनाओं से भरपूर है, इसलिए हमने उसमें की अतीव महत्वपूर्ण घटनाओं एवं उनके विश्लेषण-मूल्यांकन को काल-क्रम में प्रस्तुत किया है । विश्लेषण करने से हमारा उद्देश्य है जन-साधारण को घटना का प्रतीक अर्थ समझाना और सत्य की खोज में खुली आँखों को जगाने का प्रयास । गुरुनानक द्वारा दूर-दूर तक की गई यात्राओं को इसीलिए हमने 'लोक-चेतना यात्राओं' का नाम दिया है । यात्राओं के विवरण में कुछ लेखकों ने अप्रमाणिक जन्मसाखियों के आधार पर गुरुजी को ऐसे देशों में भी टहलते दिखाया है, जिसका आज तक कोई प्रमाण उपलब्ध नहीं हो पाया । हमने यात्रा-विवरण में उन सम्भावनाओं से परहेज किया है । जिन गाँवों, कस्बों, नगरों, प्रदेशों, देशों की चर्चा हमने की है, उनका चयन हमने अनेक अधिकारी विद्वानों की पुस्तकों से किया है । 'क्रान्तिकारी महामानव गुरुनानक देव' जिसके लेखक भाई जसबीर सिंघ हैं, ऐसी ही विशिष्ट पुस्तक है । डॉ० रत्न सिंह जग्गी, डॉ० गुरचरण सिंह पदम्, डी. त्रिलोचन सिंह, डॉ० फौज सिंह तथा ज्ञान सिंह की रचनाएं भी हमारी दिशा-निर्देशिका बनी हैं । हमारे कहने का तात्पर्य यह है कि हमने गुरुजी की लोक-चेतना-यात्राओं को प्रस्तुत करते हुए श्रद्धा और विवेक, दोनों का सहारा लिया है ।

जीवन-चक्र के उपरान्त गुरुदेव के व्यक्तित्व को उजागर करने का हमारा प्रयास इसलिए सार्थक है, कि हम गुरुजी को वीतरागी, संसार-त्यागी न दिखाकर समाज और सामाजिकों के बीच एक सक्रिय घटक दिखाना चाहते हैं । महामानव नानक लोगों के मात्र परित्राणार्थ ही नहीं, बल्कि सुखद सामाजिक जीवन जीने के लिए सत्याचरण की शिक्षा देने के लिए आए थे । समाज में रहकर उन्होंने परिस्थितिजन्य टीस स्वयं महसूस की थी और फिर उसी स्वानुभव के बूते गुरुदेव ने समाज-सुधार की आवाज उठाई थी । निश्चय ही वे जाति, वर्ण, पर आधृत समाज को स्वीकृति नहीं दे पाए थे, तथापि उन्होनें गृहस्थाश्रम में रहकर प्रभु-प्राप्ति का महत् संदेश तो दिया ही था । उनके लिए समस्त मनुष्य क्योंकि एक पिता की सन्तान थे, इसलिए समान थे । फिर न कोई हिन्दू था, न मुसलमान! वे मनुष्यों को मानवीय धरातल पर नैतिक साँचे में ढला देखना चाहते थे । और इसके लिए वे भाषण में नहीं, कर्म में विश्वास रखते थे । इसी में उनका पावन व्यक्तित्व उभरता है।

गुरुनानकदेव भले विद्यालय में जाकर पुरोहितों-मौलवियों की शिष्यता में अधिक लिखे-पढ़े न थे, तथापि मानवीय संवेदनाएं और काव्य-प्रतिभा उनमें खूब थी । उसी आधार पर आपने अनेक काव्य-रचनाओं को आकार दिया, जो गुरु ग्रंथ साहिब में 'महला-' की बाणी के अन्तर्गत संकलित हैं । हमने इस छोटी-सी रचना में भी गुरुजी की सभी गुरु-लघु रचनाओं का परिचयात्मक विश्लेषण प्रस्तुत किया है । हम जानते हैं कि गुरुदेव की समृद्ध काव्य-कला एवं अभिव्यंजना-कौशल को जानने के लिए विस्तार और गहनता अपेक्षित है, किन्तु हमारी कलेवर-सीमाएं इसमें बाधक थीं । तथापि गुरुजी की समूची बाणी का दिग्दर्शन तो यहाँ करवाया ही गया गुरुनानक देव जी के 'जीवन-दर्शन' की अनुपस्थिति में यह लघु कृति अधूरी ही रह जाती, इसलिए हमने गुरुजी की सोच, नवचेतना के सामाजिक, धार्मिक एवं आध्यात्मिक पक्षों को शाब्दिक भूमि प्रदान की है । गुरुजी महामानव होने के साथ-साथ लोक-नायक भी थे । उन्होंने अपने ही जीवन की प्रामाणिकता के माध्यम से लोक के लिए वे उच्च स्तरीय महान निधियाँ प्रादान की हैं, जो मनुष्यों को परमात्मा बना देने में सहयोगी हैं । गुरुदेव धरती पर स्वर्ग का संदेश लेकर नहीं आए थे, उनका लक्ष्य तो धरती को ही स्वर्ग बना देने का था । इसके लिए उन्होंने मात्र दो पहलुओं का प्रचार-प्रसार किया और 'गुरु की शरण' एवं 'प्रभु-नाम-सिमरण' के दो अमोघ शस्त्रों से संसार-समाज की समूची विकटता, मलिनता और मायावी-तन्त्र के साथ भिड़ जाने का संदर्भ पेश किया । यही उन्हें पुरुष से पुरुषोत्तम बना देने में समर्थ है । अन्त में 'समापन' सन्दर्भ में हमने गुरुजी की बाणी को आधार बनाकर उनके जीवन-दर्शन एवं व्यक्तित्व का उपसंहार प्रस्तुत किया है ।

इस प्रकार यह लघु रचना गुरुदेव के समूचे मानवीय सरोकारों को पाठक के सम्मुख विश्लेषण एवं मूल्यांकन के माध्यम से पेश करती है । हमारा विश्वास है कि सीमित कलेवर में गुरुनानकदेव के सम्बन्ध में यथासम्भव हमने चर्चा-योग्य बिन्दुओं और मुद्दों को अध्ययन-विषय बना लिया है । तथापि यदि कोई पहलू छूट गया हो, तो विद्वन्मण्डल हमारी सीमाओं का ध्यान रखते हुए हमें क्षमा-दान दे।

इस पुस्तक पर कार्य करते हुए सचमुच मैनें कईओं के अधिकारों का उातिक्रमण किया है, किन्तु स्नेहवश उन्होंने मेरी धृष्टता की उपेक्षा कर दी है । मैं उनका हार्दिक आभारी हूँ । उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ के प्रति भी मैं आभार लापित करता हूँ जिन्होनें मुझे इस रचना की प्रेरणा दी और स्वयं इसे प्रकाशित करने का दायित्व निभाया ।

विषय सूची

1

पृष्ठभूमि : युग-युग सम्भव

1

2

आरम्भिक जीवन-चरित

7

जन्म, बाल्यावस्था और विद्याध्ययन, यज्ञोपवीत संस्कार तथा अन्य छिटपुट घटनाएं ।

तलवंडी से बाहर: सुल्तानपुर में (दिनचर्या, विवाह, सन्तान, बेई नदी प्रसंग, यात्राओं की तैयारी)

3

गुरु नानकदेव की प्रथम लोक-चेतना यात्रा

27

4

गुरु नाननदेव की द्वितीय लोक-चेतना यात्रा

66

5

गुरु नानकदेव की तृतीय लोक चेतना यात्रा

81

6

गुरु नानकदेव की चौथी लोक चेतना यात्रा

93

7

गुरु नानकदेव का करतारपुर निवास

102

भाई लहणा क्त आश्रम में आगमन, उत्तराधिकारी के चुनाव

के लिए परीक्षा, उत्तराधिकारी की घोषणा, ज्योति जोति समाना

8

गुरु नानकदेव का व्यक्तित्व

113

9

गुरु नानकदेव की रचनाएं

122

लम्बी रचनाएं, वारें, वर्णमालाषारित कृतियां,

कालपरक संज्ञात्मक कृतियां, फुटकर पद ।

10

गुरु नानकदेव का जीवन-दर्शन :

141

सामाजिक चिन्तन, धार्मिक चिन्तन,

राजनीतिक राष्ट्रीय चिन्तन, दार्शनिक चिन्तन

11

समापन

173

 

गुरु नानक देव: Guru Nanak Dev

Deal 20% Off
Item Code:
NZA501
Cover:
Paperback
Edition:
2009
ISBN:
9788189989286
Language:
Hindi
Size:
8.5 inch X 5.5 inch
Pages:
189
Other Details:
Weight of the Book:250 gms
Price:
$10.00
Discounted:
$8.00   Shipping Free
You Save:
$2.00 (20%)
Add to Wishlist
Send as e-card
Send as free online greeting card
गुरु नानक देव: Guru Nanak Dev

Verify the characters on the left

From:
Edit     
You will be informed as and when your card is viewed. Please note that your card will be active in the system for 30 days.

Viewed 3071 times since 24th Mar, 2014

प्राक्कथन

 

मध्यकालीन भारत में भक्ति-आन्दोलन के कर्णधारों में गुरु नानकदेव का आगमन केवल एक प्रमुख सन्त के रूप में ही नहीं हुआ था, वरन् वे अपनी सहज विचारधारा और नव-चिन्तन के बल पर देश में एक अलग मानववादी पंथ खड़ा करने वाले महापुरुष भी कहलाए । पंजाब की धरती से मानवता की जो आवाज़ उठी, उसने एक ओर तत्कालीन मुस्लिम बादशाह और नवाबों की ऐय्याशी और जन-साधारण के अमानवीय शोषण को चुनौती दी, तो दूसरी ओर पतनोन्मुखी मानवीय संवेदनाओं को पुनर्सजग करने के भरपूर प्रयास किए । गुरुदेव ने सहज विवेक से, जन पर होने वाले सामाजिक, प्रशासकीय एवं सजातीय अत्याचारों के विराध में शंखनाद किया और अपनी-अपनी जातीय सीमाओं के कष्ट में पनपती आम आदमी की जिंदगी को सहज-सरल बनाने एवं उन्हें परम शक्ति के संरक्षण का विश्वास दिलाने का महत् कर्म किया । जिज्ञासुओं को अध्यात्म के धरातल पर सत्य का पथ प्रदान किया, और श्रद्धालुओं को सत्याचरण का संदेश देकर प्रभु की शरण में समर्पित होने को प्रोत्साहित किया । गुरुदेव ने नये पंथ का बीज बोया और धीरे-धीरे पनपता हुआ वह एक विश्वव्यापी और सशक्त मानवीय स्वर बना ।

ऐसे महामानव का जीवन, उनसे सम्बद्ध घटनाएं, उनके सार्थक कर्म, लोक-चेतना को जगाने वाली लम्बी यात्राएं, विनम्र और सुदृढ़ व्यक्तित्व, जिसके सजग और सुविज्ञ तर्कों से अनगिनत विकट स्थितियों का सुलझना, इन सबसे ऊपर उनका आत्मानुभूत 'सत्य' जिसने आध्यात्मिकता की परिभाषा को कर्मकाण्ड की कारा से निकालकर जीवात्मा के अनुभूत यथार्थ की सुखद संवेदना में स्थापित किया-आदि तथ्य, भावी पीढ़ियों के लिए प्रेरक अनुकरणीय और सदैव उत्साह वर्द्धक हैं । वर्तमान को उस अतीत का दर्शन करवाने, सत्पथ की प्रेरणा देने और गुरु के वास्तविक मिशन को जन-जन तक पहुँचाने की सहज श्रृंखला में एक कड़ी के रूप में प्रस्तुत है यह लघु पुस्तक ।

उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ की प्रेरणा से यह पुस्तक तैयार की गई है । इसकी विशिष्टता यह है कि हमने इसमें गागर में सागर भरने का विनम्र प्रयास किया है । गुरुनानक देव का समूचा जीवन शिक्षाप्रद एवं प्रेरक घटनाओं से भरपूर है, इसलिए हमने उसमें की अतीव महत्वपूर्ण घटनाओं एवं उनके विश्लेषण-मूल्यांकन को काल-क्रम में प्रस्तुत किया है । विश्लेषण करने से हमारा उद्देश्य है जन-साधारण को घटना का प्रतीक अर्थ समझाना और सत्य की खोज में खुली आँखों को जगाने का प्रयास । गुरुनानक द्वारा दूर-दूर तक की गई यात्राओं को इसीलिए हमने 'लोक-चेतना यात्राओं' का नाम दिया है । यात्राओं के विवरण में कुछ लेखकों ने अप्रमाणिक जन्मसाखियों के आधार पर गुरुजी को ऐसे देशों में भी टहलते दिखाया है, जिसका आज तक कोई प्रमाण उपलब्ध नहीं हो पाया । हमने यात्रा-विवरण में उन सम्भावनाओं से परहेज किया है । जिन गाँवों, कस्बों, नगरों, प्रदेशों, देशों की चर्चा हमने की है, उनका चयन हमने अनेक अधिकारी विद्वानों की पुस्तकों से किया है । 'क्रान्तिकारी महामानव गुरुनानक देव' जिसके लेखक भाई जसबीर सिंघ हैं, ऐसी ही विशिष्ट पुस्तक है । डॉ० रत्न सिंह जग्गी, डॉ० गुरचरण सिंह पदम्, डी. त्रिलोचन सिंह, डॉ० फौज सिंह तथा ज्ञान सिंह की रचनाएं भी हमारी दिशा-निर्देशिका बनी हैं । हमारे कहने का तात्पर्य यह है कि हमने गुरुजी की लोक-चेतना-यात्राओं को प्रस्तुत करते हुए श्रद्धा और विवेक, दोनों का सहारा लिया है ।

जीवन-चक्र के उपरान्त गुरुदेव के व्यक्तित्व को उजागर करने का हमारा प्रयास इसलिए सार्थक है, कि हम गुरुजी को वीतरागी, संसार-त्यागी न दिखाकर समाज और सामाजिकों के बीच एक सक्रिय घटक दिखाना चाहते हैं । महामानव नानक लोगों के मात्र परित्राणार्थ ही नहीं, बल्कि सुखद सामाजिक जीवन जीने के लिए सत्याचरण की शिक्षा देने के लिए आए थे । समाज में रहकर उन्होंने परिस्थितिजन्य टीस स्वयं महसूस की थी और फिर उसी स्वानुभव के बूते गुरुदेव ने समाज-सुधार की आवाज उठाई थी । निश्चय ही वे जाति, वर्ण, पर आधृत समाज को स्वीकृति नहीं दे पाए थे, तथापि उन्होनें गृहस्थाश्रम में रहकर प्रभु-प्राप्ति का महत् संदेश तो दिया ही था । उनके लिए समस्त मनुष्य क्योंकि एक पिता की सन्तान थे, इसलिए समान थे । फिर न कोई हिन्दू था, न मुसलमान! वे मनुष्यों को मानवीय धरातल पर नैतिक साँचे में ढला देखना चाहते थे । और इसके लिए वे भाषण में नहीं, कर्म में विश्वास रखते थे । इसी में उनका पावन व्यक्तित्व उभरता है।

गुरुनानकदेव भले विद्यालय में जाकर पुरोहितों-मौलवियों की शिष्यता में अधिक लिखे-पढ़े न थे, तथापि मानवीय संवेदनाएं और काव्य-प्रतिभा उनमें खूब थी । उसी आधार पर आपने अनेक काव्य-रचनाओं को आकार दिया, जो गुरु ग्रंथ साहिब में 'महला-' की बाणी के अन्तर्गत संकलित हैं । हमने इस छोटी-सी रचना में भी गुरुजी की सभी गुरु-लघु रचनाओं का परिचयात्मक विश्लेषण प्रस्तुत किया है । हम जानते हैं कि गुरुदेव की समृद्ध काव्य-कला एवं अभिव्यंजना-कौशल को जानने के लिए विस्तार और गहनता अपेक्षित है, किन्तु हमारी कलेवर-सीमाएं इसमें बाधक थीं । तथापि गुरुजी की समूची बाणी का दिग्दर्शन तो यहाँ करवाया ही गया गुरुनानक देव जी के 'जीवन-दर्शन' की अनुपस्थिति में यह लघु कृति अधूरी ही रह जाती, इसलिए हमने गुरुजी की सोच, नवचेतना के सामाजिक, धार्मिक एवं आध्यात्मिक पक्षों को शाब्दिक भूमि प्रदान की है । गुरुजी महामानव होने के साथ-साथ लोक-नायक भी थे । उन्होंने अपने ही जीवन की प्रामाणिकता के माध्यम से लोक के लिए वे उच्च स्तरीय महान निधियाँ प्रादान की हैं, जो मनुष्यों को परमात्मा बना देने में सहयोगी हैं । गुरुदेव धरती पर स्वर्ग का संदेश लेकर नहीं आए थे, उनका लक्ष्य तो धरती को ही स्वर्ग बना देने का था । इसके लिए उन्होंने मात्र दो पहलुओं का प्रचार-प्रसार किया और 'गुरु की शरण' एवं 'प्रभु-नाम-सिमरण' के दो अमोघ शस्त्रों से संसार-समाज की समूची विकटता, मलिनता और मायावी-तन्त्र के साथ भिड़ जाने का संदर्भ पेश किया । यही उन्हें पुरुष से पुरुषोत्तम बना देने में समर्थ है । अन्त में 'समापन' सन्दर्भ में हमने गुरुजी की बाणी को आधार बनाकर उनके जीवन-दर्शन एवं व्यक्तित्व का उपसंहार प्रस्तुत किया है ।

इस प्रकार यह लघु रचना गुरुदेव के समूचे मानवीय सरोकारों को पाठक के सम्मुख विश्लेषण एवं मूल्यांकन के माध्यम से पेश करती है । हमारा विश्वास है कि सीमित कलेवर में गुरुनानकदेव के सम्बन्ध में यथासम्भव हमने चर्चा-योग्य बिन्दुओं और मुद्दों को अध्ययन-विषय बना लिया है । तथापि यदि कोई पहलू छूट गया हो, तो विद्वन्मण्डल हमारी सीमाओं का ध्यान रखते हुए हमें क्षमा-दान दे।

इस पुस्तक पर कार्य करते हुए सचमुच मैनें कईओं के अधिकारों का उातिक्रमण किया है, किन्तु स्नेहवश उन्होंने मेरी धृष्टता की उपेक्षा कर दी है । मैं उनका हार्दिक आभारी हूँ । उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ के प्रति भी मैं आभार लापित करता हूँ जिन्होनें मुझे इस रचना की प्रेरणा दी और स्वयं इसे प्रकाशित करने का दायित्व निभाया ।

विषय सूची

1

पृष्ठभूमि : युग-युग सम्भव

1

2

आरम्भिक जीवन-चरित

7

जन्म, बाल्यावस्था और विद्याध्ययन, यज्ञोपवीत संस्कार तथा अन्य छिटपुट घटनाएं ।

तलवंडी से बाहर: सुल्तानपुर में (दिनचर्या, विवाह, सन्तान, बेई नदी प्रसंग, यात्राओं की तैयारी)

3

गुरु नानकदेव की प्रथम लोक-चेतना यात्रा

27

4

गुरु नाननदेव की द्वितीय लोक-चेतना यात्रा

66

5

गुरु नानकदेव की तृतीय लोक चेतना यात्रा

81

6

गुरु नानकदेव की चौथी लोक चेतना यात्रा

93

7

गुरु नानकदेव का करतारपुर निवास

102

भाई लहणा क्त आश्रम में आगमन, उत्तराधिकारी के चुनाव

के लिए परीक्षा, उत्तराधिकारी की घोषणा, ज्योति जोति समाना

8

गुरु नानकदेव का व्यक्तित्व

113

9

गुरु नानकदेव की रचनाएं

122

लम्बी रचनाएं, वारें, वर्णमालाषारित कृतियां,

कालपरक संज्ञात्मक कृतियां, फुटकर पद ।

10

गुरु नानकदेव का जीवन-दर्शन :

141

सामाजिक चिन्तन, धार्मिक चिन्तन,

राजनीतिक राष्ट्रीय चिन्तन, दार्शनिक चिन्तन

11

समापन

173

 

Post a Comment
 
Post Review
Post a Query
For privacy concerns, please view our Privacy Policy
Based on your browsing history
Loading... Please wait

Items Related to गुरु नानक देव: Guru Nanak Dev (Hindu | Books)

Philosophy of Life - As Reflected in the Bani of Guru Nanak and Upanisads
by Kanta Arora
Hardcover (Edition: 2019)
D. K. Printworld Pvt. Ltd.
Item Code: NAO072
$38.50
Add to Cart
Buy Now
Thus Spake Guru Nanak
Paperback (Edition: 2001)
Sri Ramakrishna Math Printing Press
Item Code: NAB459
$3.00
Add to Cart
Buy Now
Guru Nanak A Prophet with a Difference
Item Code: IDK400
$12.00
Add to Cart
Buy Now
A Guru Nanak Glossary
by C. Shackle
Hardcover (Edition: 2011)
Heritage Publishers
Item Code: NAM531
$38.00
Add to Cart
Buy Now
Guru Nanak (The Enlightened Master)
by Sreelata Menon
Paperback (Edition: 2011)
Puffin Books
Item Code: NAG498
$10.00
Add to Cart
Buy Now
Guru Nanak and His Teachings
Item Code: IDI825
$25.00
Add to Cart
Buy Now
Life and Teachings of Guru Nanak
Deal 20% Off
Item Code: IDH521
$5.00$4.00
You save: $1.00 (20%)
Add to Cart
Buy Now
Guru Nanak
by Gopal Singh
Paperback (Edition: 2010)
National Book Trust
Item Code: NAJ888
$10.00
Add to Cart
Buy Now
Guru Nanak Japji Poemario Espiritual (Spanish)
Deal 20% Off
Paperback (Edition: 2005)
Los Pequenos Libros De La Sabiduria
Item Code: IHH006
$16.50$13.20
You save: $3.30 (20%)
Add to Cart
Buy Now
Guru Nanak's Life and Thought
Deal 20% Off
Item Code: IDG876
$27.50$22.00
You save: $5.50 (20%)
Add to Cart
Buy Now
The True Name (Talks on the Japuji-Saheb of Guru Nanak Dev)
by Osho
Paperback (Edition: 2007)
Hind Pocket Books
Item Code: IDK124
$33.50
Add to Cart
Buy Now
Testimonials
I am so very grateful for the many outstanding and interesting books you have on offer.
Hans-Krishna, Canada
Appreciate your interest in selling the Vedantic books, including some rare books. Thanks for your service.
Dr. Swaminathan, USA
I received my order today, very happy with the purchase and thank you very much for the lord shiva greetings card.
Rajamani, USA
I have a couple of your statues in your work is really beautiful! Your selection of books and really everything else is just outstanding! Namaste, and many blessings.
Kimberly
Thank you once again for serving life.
Gil, USa
Beautiful work on the Ganesha statue I ordered. Prompt delivery. I would order from them again and recommend them.
Jeff Susman
Awesome books collection. lots of knowledge available on this website
Pankaj, USA
Very easy to do business with your company.
Paul Gomez, USA
Love you great selection of products including books and art. Of great help to me in my research.
William, USA
Thank you for your beautiful collection.
Mary, USA
Language:
Currency:
All rights reserved. Copyright 2019 © Exotic India