राग विबोध मिश्रबानी: Raga Vibodha Mishra Vani (Set of 2 Volumes) (With Notations)
Look Inside

राग विबोध मिश्रबानी: Raga Vibodha Mishra Vani (Set of 2 Volumes) (With Notations)

FREE Delivery
$39  $52   (25% off)
Quantity
Ships in 1-3 days
Item Code: NZC264
Author: डॉ. रागिनी त्रिवेदी (Dr. Ragini Trivedi)
Publisher: Hindi Madhyam Karyanvaya Nideshalaya, Delhi University
Language: Hindi
Edition: 2010
ISBN: 9789380172361
Pages: 898
Cover: Paperback
Other Details: 9.5 inch X 7.5 inch
Weight 1.4 kg





Volume II

 

 

 

अनुक्रमणिका

प्राक्कथन

 

आमुख

 

संगीत और ध्वनि

1

शास्त्रीय वाद्दों का ऐतिहासिक विकास क्रम   

31

प्रबंध'-भारतीय निबध्दगान की परम्परा

41

राग केदार की विलम्बित गत की तानें

83

राग केदार के विलम्बित गत के तौड़े

87

राग केदार के मध्य अथवा द्रुत विलम्बित गत के तौड़े  

95

राग हमीर

101

राग हमीर के विलम्बित गत के तोड़े

137

राग जयजयवंती  किविलम्बित गत तानें 

181

राग केदार के विलम्बित गत के तौड़े

185

राग केदार के मध्य अथवा द्रुत विलम्बित गत के तानें   

192

राग केदार के मध्य अथवा द्रुत विलम्बित गत के तौड़े  

196

राग बहार

199

राग बहार  के विलम्बित गत के  तानें

232

राग बहार  के विलम्बित गत के तोड़े

235

राग बहार के मध्य अथवा द्रुत विलम्बित गत के तानें  

241

राग बहार के मध्य अथवा द्रुत विलम्बित गत के तौड़े   

245

राग गौड़ सारंग

249

राग गौड़ सारंग के विलम्बित गत के  तानें

281

राग गौड़ सारंग के विलम्बित गत के तौड़े

284

राग गौड़ सारंग के मध्य अथवा द्रुत विलम्बित गत के तानें  

289

राग गौड़ सारंग के मध्य अथवा द्रुत विलम्बित गत के तौड़े  

293

राग मालकोष

297

राग मालकोष के विलम्बित गत के  तानें

337

राग मालकोष की मध्य लय अथवा द्रुत लय की तानें      

346

स्वरलिपि अंकन

355

ओम स्वरलिपि अद्दतन    

364

ओम स्वरलिपि में स्वरांकित ; रचनायें

369

 

Sample Page

Add a review
Have A Question

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

CATEGORIES