फिल्मी विरह गीत अंक: Songs of Separation from Hindi Movies (With Notation)

FREE Delivery
$33
Quantity
Ships in 1-3 days
Item Code: HAA232
Author: लक्ष्मी नारायण गर्ग: (Lakshmi Narayan Garg)
Publisher: Sangeet Karyalaya Hathras
Language: Hindi
Pages: 128
Cover: Paperback
Other Details 9.5 inch X 6.0 inch
Weight 170 gm
Fully insured
Fully insured
Shipped to 153 countries
Shipped to 153 countries
More than 1M+ customers worldwide
More than 1M+ customers worldwide
100% Made in India
100% Made in India
23 years in business
23 years in business

सम्पादकीय

 फिल्म संगीत के विशेषांकों की श्रृंखला में फिल्मी विरह गीत अंक पाठकों की सेवा में प्रस्तुत है । इसमें प्रसिद्ध फिल्मों के पैतीस लोकप्रिय विरह गीत स्वरांकन सहित हू ब हू धुनों में प्रकाशित किए गए हैं । गीतों के चयन में इस बात का विशेष ध्यान रखा गया है कि उनकी स्वरावली सम्मोहक, भाषा भावपूर्ण तथा धुन जन मन रंजक हो ।

विरह (जुदाई) शब्द का अर्थ अत्यंत व्यापक और संवेदनशील है । जिस समय गर्भाशय के डिंबकोश में जीवात्मा का प्रावधान होता है, उसी समय से जीव (मनुष्य) का परमात्मा से विछोह हो जाता है और उस समय से मृत्यु पर्यंत उसे (जीव को) विरह व्यथा भोगनी पड़ती है । जिन प्राणियों को इस विरह की अनुभूति जीवन में प्राय होती रहती है, वे धन्य हैं ।

भौतिक जगत् में विरह शब्द विशेष महत्व रखता है । प्रेमी ह्दय प्राय प्रेम की आग (विरह) में ही जलते रहना पसंद करता है । क्योंकि मिलन की प्रतीक्षा की घड़ियों में उसे जो आनंदानुभूति हुआ करती है, वह मिलन के पश्चात् निश्चित रूप से समाप्त हो जाती है । किसी ने कहा भी है

खुदा करे कि मज़ा इंतजार का न मिटे, मेरे सवाल का वो दे जवाब बरसों में । प्रेमी के लिए विरह काल वास्तव में वरदान कहना चाहिए । यदि प्रेमी सच्चा है, तो वह अपने प्रिय से बिछुड़कर निरंतर उसी के ध्यान में, उसी की याद में और उसी के गुण गान में तल्लीन रहेगा । इस तल्लीनता में उसकी सांसों के तार पर प्रिय का ही राग बजेगा । इस राग के रस का स्वाद न उसको लेखनी लिख सकता है, न उसकी वाणी बता सकती है । हां, उसके अंतर से प्रस्फुटित होनेवाले विरह गीत उसकी मनोदशा की अभिव्यक्ति में किसी हद तक अवश्य समर्थ होते हैं । भावुक हृदयों पर इस प्रकार के गीतों का विशेष प्रभाव होता है । प्रेमी हृदय विरह गीतों को सुनते ही अपने प्रिय की स्मृति में डूबने लगता है और ऐसा अनुभव करने लगता है, मानो उसी की दास्तान दुहराई जा रहो है । इसलिए कहा जा सकता है कि प्रिय के वियोग को मानसिक संयोग में बदलने का कार्य विरह गीत ही करते हैं ।

साहित्य में विरह की दस अवस्थाएँ बताई गई हैं यथा अभिलाष, चिन्ता, स्मृति, गुणकथन, उद्वेग, प्रलाप, उन्माद, व्याधि, जड़ता और मरण । कृष्ण के वियोग में गोपियों का विरह जगत् प्रसिद्ध है । प्रस्तुत प्रकाशन आपको विरह के सागर में अवगाहन करा सके तो हमारा श्रम सार्थक सिद्ध होगा ।

 

अनुक्रम

संपादकीय

4

1

जब दिल ही टूट गया, हम जी के क्या करेंगे फिल्म शाहजहाँ गायन सहगल

5

2

तेरा जाना दिल के अरमानों का जुट जाना फिल्म अनाड़ी गायन लता मंगेशकर

9

3

तीर खाते जाएँगे, आँसू बहाते जाएँगे फिल्म दीवाना गायन लता

13

4

जाने वो कैसे लोग थे जिनके प्यार को प्यार मिला फिल्म प्यासा गायन हेमंतकुमार

16

5

ओ जानेवाले, हो सके तो लौट के आना फिल्म बंदिनी गायन मुकेश

19

6

सारी सारी रात तेरी याद सताए फिल्म अजी बस शुक्रिया गायन लता मंगेशकर

22

7

तेरे प्यार को इस तरह से भुलाना फिल्म मैंने जीना सीख लिया गायन मुकेश

25

8

ऐ मेरे दिल कहीं और चल, ग़म की दुनिया से दिल भर गया फिल्म दाग गायन तलत महमूद

29

9

मुहब्बत की झूठी कहानी पे रोए फिल्म मुगले आज़म गायन लता मंगेशकर

33

10

हम छोड़ चले हैं महफिल को फिल्म जी चाहता है गायन मुकेश

36

11

साथी न कोई मंजिल, दिया है न कोई महफ़लि फिल्म बम्बई का बाबू गायन मुहम्मद रफी

39

12

बहारों ने मेरा चमन लूटकर फिल्म देवर गायन मुकेश

42

13

बहुत दिन बीते रे फिल्म संत ज्ञानेश्वर गायन लता मंगेशकर

46

14

जिस दिल में बसा था प्यार तेरा फिल्म सहेली गायन मुकेश

50

15

क्या से क्या हो गया, बेवफा! तेरे प्यार में फिल्म गाइड गायन मुहम्मद रफी

53

16

मैं तो दीवाना दीवाना दीवाना! फिल्म मिलन गायन मुकेश

56

17

कोई सागर दिल को बहलाता नहीं! फिल्म दिल दिया दर्द लिया गायन मुहम्मद रफी

59

18

खुशी दो घड़ी की मिले, न मिले फिल्म दूर का राही गायन किशोरकुमार

62

19

हम थे जिनके सहारे, वो हुए न हमारे फिल्म सफ़र गायन लता मंगेशकर

65

20

वो तेरे प्यार का ग़म, इक बहाना था सनम फिल्म माई लव गायन मुकेश

68

21

दिन ढल जाए, हाए रात जाए फिल्म गाइड गायन मुहम्मद रफी

71

22

तुम मुझसे दूर चले जाना ना, मैं तुमसे दूर चली जाऊँगी, फिल्म इश्क पर जोर नहीं गायन लता मंगेशकर

73

23

परदेसियों से न अँखियाँ मिलाना, फिल्म जब जब फूल खिले गायन लता मंगेशकर

75

24

रँगीला रे, तेरे रँग में यू रँगा है मेरा मन, फिल्म प्रेम पुजारी गायन लता मंगेशकर

78

25

जाने कहाँ गए वो दिन, कहते थे तेरी राह में नज़रों को हम बिछाएंगे, फिल्म मेरा नाम जोकर गायन मुकेश

82

26

न कोई उमंग है, न कोई तरंग है, फिल्म कटी पतंग गायन लता मंगेशकर

86

27

कोई जब तुम्हारा हृदय तोड़ दे, फिल्म पूरब और पच्छिम गायन मुकेश

90

28

मैं तो हर मोड़ पर तुझको दूगाँ सदा, फिल्म चेतना गायन मुकेश

93

29

जुबाँ पे दर्द भरी दास्ताँ चली आई फिल्म मर्यादा गायन मुकेश

96

30

जाने क्यूँ लोग मुहब्बत किया करते हैं, फिल्म महबूब की मेहँदी गायन लता मंगेशकर

99

31

तेरे बिन जिया न लगे, आजा रे आजा फिल्म परदे के पीछे गायन लता मंगेशकर

102

32

दो कदम तुम न चले, दो कदम हम न चले फिल्म एक हसीना, दो दीवाने गायन मुकेश

105

33

मुझे तेरी मुहब्बत का सहारा मिल गया होता फिल्म आप आए बहार आई गायन लता एवं रफी

108

34

अंग से अंग लगा ले, साँसों में है तूफान फिल्म ऐलान गायन लता मंगेशकर

111

35

सूनी रे नगरिया, सूनी से सजरिया फिल्म उपहार गायन लता मंगेशकर

114

स्वरलिपि चिन्ह परिचय

118

 

 

Add a review
Have A Question

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

CATEGORIES